रामायण के अनुसार इन 4 लोगों के पास कभी नहीं टिकती लक्ष्मी ..कहीं आप भी तो नहीं कर रहे ये गलती !

यदि आप सालों से कड़ी मेहनत कर रहे हैं, पैसा भी कमा रहे हैं, पर ये पैसा न तो आपको अमीर बना रहा और न ही आपकी बचत करा रहा है. ऐसी स्थिति में एक बार जरूर सोचें कि आपसे आखिर कहां गलती हो रही है..आज हम आपको उन चार लोगों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो जीवन में कभी भी अमीर नहीं बन सकते है क्योंकि उनके गलत काम उनकी किस्मत बर्बाद करके रख देते है, जिसका खामियाजा उनके साथ-साथ उनके परिवार वालों को भी भुगतना पड़ता है.

मौजूदा खबर अनुसार बता दें कि हिन्दू धर्म में रामायण या राम चरित मानस को जीवन जीने का आधार माना जाता है. रामायण हमे जीवन जीने की सही दिशा दिखाती है. रामायण जिन्दगी के हर पल में हमे जीवन को आदर्श और धर्म के अनुसार जीने के लिए प्रेरित करती है . राम चरित मानस में इस बात का उल्लेख किया गया है की कुछ लोगों के पास धन क्यों नहीं रुकता है आज हम आपके सामने उन्ही बातों का उल्लेख करने जा रहे है.

रामायण के मुताबिक ये चार लोग जीवन में कभी भी नहीं बन सकते अमीर !!

गलत जीवनसाथी : अगर आपका जीवन साथी सही नहीं है तो आपके पास लक्ष्मी कभी नहीं रुकेंगी. वैसे भी कहावत है की एक सभ्य लड़की पुरे घर को सवांर देती है और घर को स्वर्ग बना देती है और जो लोग अपने जीवन साथी को धोखा देते हैं उनके पास लक्ष्मी कभी भी निवास नहीं करती है. ऐसे में धन के साथ-साथ आपका जीवन भी बर्बाद हो रहा है.
लालच बुरी बला है : रामायण के अनुसार अगर आप लालची है तो कभी भी आपके पास धन नहीं रहेगा. लालच बुरी बला है ये कहावत तो आप लोगों ने सुनी ही होगी इसलिए लालच छोड़ क्र आपको धर्म का अनुसरण करना चाहिए.

ज्यादा घमंड करना : रामायण में लिखा है कि जिस भी व्यक्ति के पास घमंड है उसके पास धन कभी नहीं हो सकता है. अगर ऐसे किसी व्यक्ति के पास धन है भी तो वो बहुत जल्द ही क्षय हो जायेगा. धन को अपने पास रखने के लिए मनुष्य को घमंड का त्याग करना चाहिए.
मादक पदार्थो का सेवन करने वाले : जो लोग मादक पदार्थो यानि नशीली चीजों का सेवन करते है, उन लोगो का जीवन तो वैसे ही नष्ट हो जाता है इसलिए रामचरितमानस के अनुसार जिन लोगो को नशीली चीजों का सेवन करने की आदत पड़ जाए. उनका सारा पैसा इन्ही चीजों में खर्च हो जाता है और उनके पास धन कभी नहीं बचता.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*