कश्मीर छोड़िये, आज यूपी में ही मच गया भयंकर तांडव, गुस्से में आये योगी ने भेजी भारी संख्या में फ़ोर्स !

सहारनपुर : यूपी के मुख्यमंत्री ने प्रदेश की जनता से वादा किया है कि वो प्रदेश को अपराध और गुंडा-राज मुक्त बनाएंगे. अपने वादे को पूरा करने के लिए वो लगातार कई बड़े कदम भी उठा रहे हैं. लेकिन आज योगी सरकार को बदनाम करने और प्रदेश में हिंसा फैलाने की खतरनाक साजिश सामने आयी, जिसके बाद से पुलिस हरकत में आ गयी है.

Image result for आज यूपी में ही मच गया भयंकर तांडव,

एक महीने में तीसरी बार जल उठा सहारनपुर

दरअसल उत्तर प्रदेश को उत्तराखंड तथा हरियाणा के जोडऩे वाले सहारनपुर में पिछले कई दिनों से हिंसा की जा रही है. आज तो और भी बड़ा बवाल खड़ा हो गया जब शब्बीरपुर हिंसा को लेकर धरना दे रहे भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने उठाने की कोशिश की. कार्यकर्ताओं ने आव देखा ना ताव और पुलिस के साथ ही गाली-गलौच के साथ पत्थरबाजी, फायरिंग और पब्लिक संम्पत्ति की आगजनी करनी शुरू कर दी.

हथियारों से लैस कार्यकर्ता इतने हिंसक हो गए कि इन्होने पुलिस को भी दौड़ा लिया. आज कई जगहों पर पुलिस व दलितों की मुठभेड़ हुई. कार्यकर्ताओं ने रामपुर मनिहारन सीओ की जीप तोड़ डाली, रामनगर पुलिस चौकी को भी आग के हवाले कर दिया और बस व कार समेत करीब डेढ़ दर्जन दुपहिया वाहनों में भी आग लगा दी.

नौबत ये आ गयी कि एडीएम, एसडीएम, नगर मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारियों को कालोनी में घुसकर अपनी जान बचानी पड़ी. हिंसा के चलते एक सिपाही समेत एक दर्जन लोग घायल हो गए. एडीएम के साथ भी मारपीट की गई.

दरअसल शब्बीरपुर के पीडि़तों को मुआवजा दिलाने की मांग को लेकर भीम आर्मी सेना के बैनर तले दलितों ने बिना इजाजत लिए ही धरना शुरू कर दिया. इसी बीच वहां पुलिस आयी और बिना अनुमति के वहां धरना दे रहे कार्यकर्ताओं को उठाने की कोशिश की. बस फिर क्या था, इन कार्यकर्ताओं ने पुलिस के साथ ही हाथा-पायी और गाली-गलोच शुरू कर दी.

इसके बाद कार्यकर्ता आगे-आगे और पुलिस उनके पीछे-पीछे दौड़ती रही. कभी घंटाघर, तो कभी गोविन्द्र नगर, तो कभी चिलकाना रोड पर इन कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर पत्थरबाजी भी की. चिलकाना रोड पर इन कार्यकर्ताओं ने एक कूड़े के ढ़ेर में आग लगा दी और फिर हाथों में तंमचे लेकर पुलिस पर गोलिया चलानी भी शुरू कर दी. जिसके बाद अपनी जान बचाने के लिए पुलिसकर्मी वहां से भाग खड़े हुए.

हिंसा के बाद दलितों ने चिलकाना रोड पर जाम लगा दिया. पुलिस ने जाम खुलवाने की कोशिश की तो नजीरपुर रोड पर दलितों ने एक बस को आग के हवाले कर दिया. पुलिस ने यहां पहुंचकर मामला शांत करवाया ही था कि मल्हीपुर रोड पर हिंसा शुरू हो गयी और दलितों ने दो बाइक में आग लगा दी. मामला शांत कराने के लिए जब यहाँ पुलिस पहुंची तो इन्होने पुलिस पर पत्थर फेकने शुरू कर दिए.

इतने पर भी हिंसा नहीं रुकी और दलितों ने राम नगर पुलिस चौकी को भी आग के हवाले कर दिया और पास में खड़ी मीडिया कर्मियों, स्थानीय अभिसूचना इकाई निरीक्षक, पुलिस दरोगा की बाइकों को भी आग लगा दी और एक दरोगा की निजी कार भी फूंक डाली. हिंसा का आलम ये था कि यहां एडीएम प्रशासन एस के दुबे, नगर मजिस्ट्रेट हरीश चंद व अन्य पुलिस अधिकारियों को अपनी जान बचाने के लिए एक कालोनी में घुसना पड़ा.Image result for आज यूपी में ही मच गया भयंकर तांडव,

जबरदस्त हिंसा के चलते डीएम एनपी सिंह व एसएसपी सुभाष चंद दुबे भारी पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर आ गए. रामपुर मनिहारन में पुलिस ने कुछ दलितों को धरना स्थल पर जाने से रोकने की कोशिश की तो इन दलितों ने रेलवे ट्रैक को घेर लिया. जिसके बाद मामले को काबू में करने के लिए सीओ प्रशिक्षु यतेन्द्र सिंह भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे तो दलितों ने उन पर भी धावा बोल दिया और उनकी गाड़ी तोड़ डाली.

इस हिंसक झड़प में एक पुलिस कर्मी गंभीर रूप से घायल हो गया. यहां भी दलितों ने पुलिसवालों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा. आपको बता दें कि अभी पांच दिन पहले ही बडग़ांव थाना क्षेत्र के गांव शब्बीरपुर व महेशपुर में दलितों और ठाकुरों के बीच जातीय हिंसा हो गयी थी. इससे पहले भीमराव आंबेडकर जुलूस निकालते वक़्त यहाँ मुस्लिमों ने जुलूस पर पत्थरबाजी के साथ गोलियां चलाई थी.

बहरहाल इस वक़्त पूरे इलाके में तनाव का माहौल है और भारी संख्या में पुलिसबल की तैनाती की गयी है. सीएम योगी खुद पूरे मामले पर नज़र रख रहे हैं. योगी सरकार पूरी ताकत से प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने में लगे हुए हैं, ऐसे में साम्प्रदायिक हिंसा व् जातीय संघर्ष के जरिये उनके ध्यान बटाने की साजिश ना हो, इसके लिए सरकार ने पुलिस से दंगाइयों से सख्ती से पेश आने के आदेश दिए हैं.Image result for आज यूपी में ही मच गया

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*