अभी-अभी :मस्जिदों पर इस एक्ट्रेस ने कह दी ऐसी बात जिसे देख गुस्से से भड़क उठे मुस्लिम संगठन !

नई दिल्ली : अभी कुछ वक़्त पहले ही मशहूर गायक सोनू निगम ने मस्जिदों पर लॉउडस्पीडकर पर तेज़ आवाज़ में अज़ान बजाने को लेकर ट्वीट कर एक नयी मुहिम छेड़ दी थी. जिसके बाद उन्होंने कड़े शब्दों में इस बात का विरोध किया था कि आखिर कब तक हम लोगों को ऐसी धार्मिक रीतियों को जबरदस्ती ढोना पड़ेगा. तो वहीँ ये मुहिम एक बार फिर सैलाब बन गयी है क्यूंकि इस बार इस अभनेत्री ने अज़ान को लेकर कह दी है इतनी बड़ी बात.

सोनू निगम के बाद इस अभिनेत्री का मस्जिदों पर फुट पड़ा गुस्सा

सोनी निगम के लाउडस्पीकर पर तेज़ आवाज़ में अज़ान को लेकर किये गए ट्वीट के बाद बहुत लोग उनके समर्थन में उतर आये थे तो कुछ लोगों ने ज़बरदस्त विरोध करना शुरू कर दिया था उनके नाम पर फतवे भी जारी कर दिए थे. लेकिन इस बार अभिनेत्री सुचित्रा कृष्णमूर्ति ने इस मुद्दे को एक बार फिर गरमा दिया है. उन्होंने लाउडस्पीकर पर अज़ान को लेकर बेहद गुस्से में ट्वीट किया है कि “मैं अभी सुबह सुबह पांच बजे घर लौटी हूँ और ये अज़ान की कानफाडू आवाज़ ने मेरे कानों को चीर के रख दिया है. इस तरह कट्टर तरीके से थोपी जाने वाली धार्मिकता से ज्यादा बेवकूफाना कुछ नहीं हो सकता.”

 

धर्म के ठेकेदार कूद पड़े
इस ट्वीट के बाद ये तेज़ी से वायरल हो गया और बहुत सारे लोग समर्थन में उतर आये तो कुछ धर्म के ठेकेदार भी कूद पड़े और अभद्र टिप्पड़ियां करने लगे. ऐसे ही एक ठेकेदार को सुचित्रा ने करारा तमाचा मारते हुए जवाब दिया “मैं ब्रह्ममुहुर्त में ही उठती हूं, प्रार्थना, रियाज़ और योग करती हूं. मुझे मेरे ईश्वर या मेरे कर्तव्य याद दिलाने के लिए किसी लाउडस्पीकर की जरूरत नहीं है”.

मस्जिदों को लेकर लिया गया बड़ा फैसला
आपको बता दें जब सोनू निगम ने ऐसा ट्वीट किया था कि ” लाउडस्पीकर से दी जाने वाली अज़ान से उनकी नींद खराब होती है और जब वह मुस्ल‍िम नहीं हैं तो वह इस धार्मिक कट्टरता को बर्दाश्त करें. ऐसा करना तो सरासर गुंडागर्दी है”. इसके बाद कई मुस्लिम संगठनों की आँखें भी खुली थी और केरल में उन्होंने 25 से ज़्यादा बड़ी मस्जिदों से स्पीकर यह कहकर उतरवा लिए थे कि आसपास स्कूल हैं अस्पताल हैं बच्चों और मरीज़ों को बहुत परेशानी होती होगी. तो वहीँ एक छठी कक्षा की किताब ने यह तक छाप दिया था कि धवनि प्रदुषण का सबसे प्रमुख कारण ही मस्जिद में होने वाली अज़ान है.आखिर क्यों होती है मस्जिदों पर अज़ान?
आपको बता दें पुराने वक़्त में जब लोग सूर्य देख कर वक़्त अंदाज़ लगाया जाता था तब अज़ान के लिए ढोल नगाड़ों या अन्य चीज़ों का इस्तेमाल किया जाता था ताकी लोग वक़्त पर पहुंच जाए उसके बाद लाउड स्पीकरों का इस्तेमाल किया जाने लगा. लेकिन आज के आधुनिक युग में हर किसी के पास स्मार्टफोन्स हैं उसमें स्मार्ट घड़ियाँ हैं सब लोग अपने आप पर वक़्त देख कर पहुंच सकते हैं तो लाउडस्पीकरों की क्या आवश्यकता है. इसी मुहिम पर कई मस्जिदों ने अब स्पीकर उतारने शुरू भी कर दिए हैं

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*